उत्तरप्रदेश

एस डी एम घनश्याम वर्मा सस्पेंड, फर्नीचर के पैसे मांगने पर कारोबारी के मकान पर बुलडोजर चलवाने का आरोप

ब्यूरो रिपोर्ट

 

मुरादाबाद के डिप्टी कलेक्टर घनश्याम वर्मा सस्पेंड।

फर्नीचर के पैसे मांगने पर कारोबारी के मकान पर बुलडोजर चलवाने का आरोप

मुरादाबाद में डिप्टी कलेक्टर घनश्याम वर्मा को सस्पेंड कर दिया है। आरोप है कि बिलारी एसडीएम रहते हुए उन्होंने एक फर्नीचर कारोबारी के घर पर इसलिए बुलडोजर चलवा दिया क्योंकि उसने फर्नीचर के पैसे मांगे थे।

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में डिप्टी कलेक्टर को प्रशासन ने सस्पेंड कर दिया है। जानकारी के मुताबिक घनश्याम वर्मा पर आरोप है कि उन्होंने बिलारी में एसडीएम रहते हुए एक फर्नीचर कारोबारी के शोरूम पर बुलडोजर चलवा दिया। आरोप है कि एसडीएम घनश्याम वर्मा ने फर्नीचर कारोबारी के शोरूम से 2.67 लाख का फर्नीचर लिया था और जब कारोबारी ने पेमेंट मांगा तो एसडीएम ने कारोबारी के घर को अवैध बताकर बुलडोजर चलवा दिया।

 

इस मामले में कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह के आदेश पर एसडीएम सुरेंद्र सिंह के खिलाफ जांच बैठी। शुरूआती जांच में दोषी पाये जाने के बाद डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने एसडीएम को बिलारी के एसडीएम पद से हटा दिया है। एडीएम की जांच रिपोर्ट के मुताबिक जिस फर्नीचर कारोबारी के घर पर एसडीएम ने बुलडोजर चलवाया वो बिलारी नगर पालिका इलाके में आता है। जांच में सामने आया कि बिलारी नगर निगम के अंतर्गत आने वाली जमीन पर बुलडोजर चलाने का अधिकार नहीं है। ये इलाका उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर है। जांच में सामने आया कि ये इलाका शक्ति नगर पालिका के अंतर्गत आता है जो ईओ के पास है।

एसडीएम घनश्याम वर्मा पर आरोप है कि उन्होंने फर्नीचर कारोबारी को सबक सिखाने के लिए नगर पालिका की शक्तिओं को बाइपास करते हुए कारोबारी को नोटिस थमा दिया और फिर उसके घर पर बुलडोजर चलवा दिया। आरोप है कि एडीएम सुरेंद्र सिंह को जब एसडीएम पर लगे आरोपों की जांच की जिम्मेदारी दी गई तो उन्होंने एसडीएम को फोन पर मामले की जांच पूरी होने तक कोई कार्रवाई ना करने को कहा था लेकिन एडीएम के कहने के बावजूद एसडीएम ने 12 जुलाई को कारोबारी के मकान पर बुलडोजर चलवा दिया।

 

 

 

Related Articles

error: Content is protected !!
Close